Follow @jansevaexpress जब कोई अपना रूठ जाता है By A.T.A - जीवन ज्ञान (जीवन से जुड़े तथ्य)

जब कोई अपना रूठ जाता है By A.T.A

Alok The Author, poetry by ata



जब कोई अपना रूठ जाता है 

मानो दिल का टांका टूट जाता है 

धड़कता तो बराबर है 

मगर कुछ कमियां खुद में पाता है 


जब कोई अपना रूठ जाता है....


है कौन गलत ये गलती किसकी है?

फिर न सूझ पाता है 

वो कैसे मानेगा? मनाऊं कैसे उसको मैं?

यही एक ख्याल पल पल सताता है 


जब कोई अपना रूठ जाता है....


नींद नहीं आती है 

रात भर करवट बदली जाती है 

आँखों में नमी उस शख्स की कमी

बेहद खलती जाती है 


मंथन मन का किया जाता है 

तब जाके समझ आता है 

कि जब कोई अपना रूठ जाता है 

तो बेशक! दिल का टांका टूट जाता है .....




कोई टिप्पणी नहीं:

Copyright ©️ 2021 जीवनज्ञान All Right Reserved

View this post on Instagram

A post shared by A.T.A (@itzz_ata)

Tweets by jansevaexpress